Tagged: श्राद्ध-कर्म शास्त्रोक्त विधि

0

श्राद्ध या पिन्डदान का अर्थ, श्राद्ध कितने प्रकार के है, श्राद्ध या पिन्डदान क्यो करना चाहिए और श्राद्ध या पिन्डदान के महत्व:

  पितरों की संतुष्टि के उद्देश्य से श्रद्धापूर्वक किये जाने वाले तर्पर्ण, ब्राह्मण भोजन, दान आदि कर्मों को श्राद्ध कहा जाता है. इसे पितृयज्ञ भी कहते हैं. श्राद्ध के द्वारा व्यक्ति पितृऋण से मुक्त...