Tagged: अध्याय-22

0

श्रावण मास माहात्म्य – अध्याय-22 (सर्वकाम-फलप्रद, संकट-हरण-व्रत)

श्रावण मास माहात्म्य – अध्याय-22 (सर्वकाम-फलप्रद, संकट-हरण व्रत) भगवान शिव बोले – हे सनत्कुमार! श्रावण मास की शुक्ल-पक्ष की चतुर्थी तिथि को सब प्रकार के फलों को प्राप्त करनेवाला यह काम फलदायक संकटमोचन व्रत...