Tagged: अध्याय ५

0

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य – अध्याय 5

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य अध्याय ५ – विष्णोर्गोलोकगमने नारद जी बोले – हे महाभाग! हे तपोनिधे! इस प्रकार अधिमास के वचनों को सुनकर हरि ने चरणों के आगे पड़े हुए अधिमास से क्या कहा ॥...