नव ग्रह शांति हेतु -श्री नव ग्रह चमत्कारी शाबर मंत्र

नव ग्रह शांति हेतु – श्री नव ग्रह चमत्कारी शाबर मंत्र

मंत्र

“ॐ गुरु जी कहे, चेला सुने, सुन के मन में गुने, नवग्रहों का मंत्र,
जपते पाप काटेंते, जीव मोक्ष पावंते, रिद्धि सिद्धि भंडार भरन्ते,
ॐ आं चं मं बुं गुं शुं शं रां कें चैतन्य नवग्रहेभ्यो नमः,
मेरी भक्ति गुरु की शक्ति , नवग्रहों को गुरु जी का आदेश आदेश आदेश “

आवश्यक सामग्री :

  1.   घी का दीपक
  2.  आसन रंग-बिरंगा कम्बल का,
  3.  किसी भी माला का प्रयोग कर सकते है परन्तु रुद्राक्ष माला विशेष फलदायी होती है !
  4.  किसी भी समय जप कर सकते है अगर आप प्रात:काल में जप करते है तो दिशा पूर्व, मध्यं में उत्तर, सायं काल में पश्चिम की होगी !
  5.  ११  माला से हवन करना है.

विधि:

इस मंत्र का १०० माला जप कर सिद्धि प्राप्त की जाती है. अगर नवरात्रों में दशमी तक १० माला रोज़ जप जाये तो भी सिद्धि होती है. सामान्य पूजा करनी है और आप अपने मंदिर में, किसी शिवालय में ,अगर नवरात्रो में कर रहे है तो माँ भगवती के सम्मुख या कोई भी सिद्ध पीठ में बैठ कर आप इसका जाप कर सकते है ! स्थान कोई भी हो सकती है परन्तु जो सबसे ज्यादा ज़रुरी है, वह आपकी श्रद्धा और पूर्ण विश्वास तभी आप इसका पूर्ण फल आपको प्राप्त होगा और कहते है की शाबर मंत्र प्राय: जपने में आसान और शीघ्र फलदायी होते है परन्तु अगर आपका पूर्ण विश्वास नहीं है तो वो भी पूर्ण फल देने में असमर्थ होते है ! जप अनुष्ठान के बाद रोज़ १०८ बार जपते रहने से भविष्य में किसी भी ग्रह की बाधा नहीं सताती !

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × 2 =