!! ध्यान रखने योग्य बातें !!*

!! ध्यान रखने योग्य बातें !!

किसी भी प्रयोग को करने से पहले मंत्र का जप किया जाता है, ताकि उस प्रयोग में सफलता प्राप्त हो । ऐसे समय में निम्नलिखित बातों पर ध्यान देना अत्यंत आवश्यक हैं –

  1. स्वच्छ रहना तथा स्वच्छ वस्त्र धारण करने चाहिए ।
  2. स्थान स्वच्छ व शुद्ध होना चाहिए ।
  3. नीच व्यक्तियों के साथ वार्तालाप व उनका स्पर्श नहीं करना चाहिए ।
  4. क्रोध नहीं करना चाहिए तथा जहां तक हो सके मौन रहना चाहिए ।
  5. चित्त स्थिर व स्वस्थ रखना चाहिए ।
  6. भोजन सात्विक व हल्का करना चाहिए । वह भी एक ही समय लें तो अच्छा है ।
  7. भोजन व जल ग्रहण करते समय मन को साफ रखना चाहिए ।
  8. हजामत नहीं बनानी चाहिए तथा गरम पानी से स्नान नहीं करना चाहिए ।
  9. किसी को शाप या आशीर्वाद नहीं देना चाहिए ।
  10. किसी भी धर्मशास्त्र व व्यक्ति की निंदा नहीं करनी चाहिए ।
  11. काम , क्रोध , मोह , लोभ , मद , हिंसा , असत्य से जहां तक हो सके , बचना चाहिए ।
  12. निर्भय होना चाहिए ।
  13. मंत्र , देवता व गुरु की उपासना श्रद्धा – भक्ति तथा विश्वासपूर्वक करनी चाहिए !!

 

 जप – जप तीन प्रकार के बतलाए हैं

१ . मानस जप,

२ . उपांशु जप और

३ . वाचिक जप ।

१ . मानस जपः — जिस जप में मंत्र की अक्षर पंक्ति के एक वर्ण से दूसरे वर्ण , एक पद से दूसरे पद तथा शब्द और अर्थ का मन द्वारा बार – बार मात्र चिंतन होता हैं , उसे ‘ मानस जप ‘ कहते हैं । यह साधना की उच्च कोटि का जप कहलाता है ।

२ . उपांशु जपः –जिस जप में केवल जिह्वा हिलती है या इतने हल्के स्वर से जप होता है , जिसे कोई सुन न सके , उसे ‘उपांशु जप ‘ कहा जाता है । यह मध्यम प्रकार का जप माना जाता है ।

३ . वाचिक जपः — जप करने वाला ऊंचे – नीचे स्वर से , स्पष्ट तथा अस्पष्ट पद व अक्षरों के साथ बोलकर मंत्र का जप करे , तो उसे ‘ वाचिक ‘ जप कहते हैं । प्रायः दो प्रकार के जप और भी बताए गए हैं – सगर्भ जप और अगर्भ जप । सगर्भ जप प्राणायाम के साथ किया जाता है और जप के प्रारंभ में व अंत में प्राणायाम किया जाए , उसे अगर्भ जप कहते हैं । इसमें प्राणायाम और जप एक – दूसरे के पूरक होते हैं ।

मंत्र जप फल  –

विशारदों का कथन है कि वाचिक जप एक गुना फल देता है , उपांशु जप सौ गुना फल देता है और मानस जप हजार गुना फल देता है । सगर्भ जप मानस जप से भी श्रेष्ठ है । मुख्यतया साधकों को उपांशु या मानस जप का ही अधिक प्रयास करना चाहिए ।

जप के प्रकार –

॥  रेचक -पूरक – कुंभा गुण त्रय स्थिरकृति स्मृति हक्का । नादो ध्यानं ध्येयैकत्वं तत्त्वं च जप भेदाः ॥

रेचक जप,पूरक जप,कुंभक जप,सात्त्विक जप,राजसिक जप,तामसिक जप,स्थिरकृति जप,स्मृति जप,हक्का जप,नाद जप,ध्यान जप,ध्येयैक्य जप और तत्त्व जप । (मंत्राधिराज कल्प में निम्न रुप से तेरह प्रकार के जप बतलाएं हैं!)

१ .रेचक जपः — नाक से श्वास बाहर निकालते हुए जो जप किया जाता है , वो ‘ रेचक जप ‘ कहलाता है ।

२ .पूरक जपः — नाक से श्वास को भीतर लेते हुए जो जप किया जाए , वो ‘ पूरक जप ‘ कहलाता है ।

३ .कुंभक जपः — श्वास को भीतर स्थिर करके जो जप किया जाए , वो ‘ कुंभक जप ‘ कहलाता है ।

४ .सात्त्विक जपः — शांति कर्म के निमित्त जो जप किया जाता है , वो ‘ सात्त्विक जप ‘ कहलाता है ।

५ .राजसिक जपः — वशीकरण आदि के लिए जो जप किया जाए , उसे ‘ राजसिक जप ‘ कहते हैं ।

६ .तामसिक जपः — उच्चाटन व मारण आदि के निमित्त जो जप किया जाए , वो ‘ तामसिक जप ‘ कहलाता है ।

७ .स्थिरकृति जपः — चलते हुए सामने विघ्न देखकर स्थिरतापूर्वक जो जप किया जाता है , उसे ‘ स्थिरकृति जप ‘ कहते हैं ।

८ .स्मृति जपः — दृष्टि को नाक के अग्रभाग पर स्थिर कर मन में जो जप किया जाता है , उसे ‘ स्मृति जप ‘ कहते हैं ।

९ .हक्का जपः — श्वास लेते समय या बाहर निकालते समय हक्कार का विलक्षणतापूर्वक उच्चारण हो , उसे ‘ हक्का जप ‘ कहते हैं ।

१०.नाद जपः — जप करते समय भंवरे की आवाज की तरह अंतर में आवाज उठे , उसे ‘ नाद जप ‘ कहते हैं ।

११ .ध्यान जपः — मंत्र – पदों का वर्णादिपूर्वक ध्यान किया जाए , उसे ‘ ध्यान जप ‘ कहते हैं ।

१२ .ध्येयैक्य जपः — ध्याता व ध्येय की एकता वाले जप को ‘ ध्येयैक्य जप ‘ कहते हैं ।

१३ .तत्त्व जपः — पृथ्वी , जल , अग्नि , वायु और आकाश – इन पांच तत्त्वों के अनुसार जो जप किया जाए , वह ‘ तत्त्व जप ‘ कहलाता है ।

मंत्र – जप कहां करें ?

मंत्र – साधना अथवा प्रयोग के समय गृह में किया गया जप एक गुना फल देता है । पवित्र वन या उद्यान में किया गया जप हजार गुना फल देता है । पर्वत पर किया गया जप दस हजार गुना फल देता है । नदी पर किया गया जप एक लाख गुना फल प्रदान करता है एवं देवालय व उपाश्रय में किया गया जप एक करोड़ गुना फल देता है तथा भगवान ( शिव आदि ) के समक्ष किया गया जप अनंत गुना फल देता है ।

बैठने का आसन

पत्थर या शिला पर बिना कोई आसन बिछाए कभी जपादि नहीं करना चाहिए । सबसे अच्छा यह है कि काठ के पट्टे पर ऊनी वस्त्र , कंबल या मृगचर्म बिछाकर , उस पर बैठकर जप करना चाहिए । यदि काठ का पट्टा उपलब्ध न हो तो ऊनी वस्त्र या मृगचर्म बिछाकर एवं उस पर आसीन होकर प्रयोगात्मक मंत्र का जप करना चाहिए ।

मंत्र – विशारदों का कथन है कि बांस का आसन व्याधि व दरिद्रता देता है , पत्थर का आसन रोगकारक है , धरती का आसन दुःखों का अनुभव कराता है , काष्ठ का आसन दुर्भाग्य लाता है , तिनकों का आसन यश हा ह्लास करता है एवं पत्रों का आसन चित्त – विक्षेप कराता हैं ।

कपास , कंबल , व्याघ्र व मृगचर्म का आसन ज्ञान , सिद्धि व सौभाग्य प्राप्त कराता है । काले मृगचर्म का आसन ज्ञान व सिद्धि प्राप्त कराता है । व्याघ्रचर्म का आसन मोक्ष व लक्ष्मी प्राप्त कराता है । रेशम का आसन पुष्टि कराता है , कंबल का आसन दुःखनाश करता है तथा कई रंगों के कंबल का आसन सर्वार्थसिद्धि देने वाला होता हैं ।

मंत्र – जप कब करें ?

  • सूर्य एवं चंद्र ग्रहण – उत्तम काल कहलाता है ।
  • कर्क एवं मकर संक्रांति – मध्यम काल है ।
  • रविवार व अमावस्या – कनिष्ठ काल है ।

सात्विक मंत्रों के लिए किसी भी प्रकार का जप तीनों समय उत्तम माना गया है । यानी सूर्योदय के एक घंटे पहले से एक घंटे बाद तक , मध्याह्न के एक घंटे पहले से एक घंटे बाद तक व सूर्योदय से एक घंटे पहले से एक घंटे बाद तक ।

माला द्वारा जप

अनेक प्रयोगों में प्रयोग से पहले मंत्र – जप का विधान होता है , ताकि मंत्र की प्रभावशीलता से प्रयोग सफल हो ।

मंत्र – जप के समय हाथ कहां रखें ,इसके बारे में महर्षियों का कथन है –

  • प्रातः काल नाभि पर हाथ रखकर जप करना चाहिए ।
  • मध्याह्न में हदय के आगे हाथ रखकर जप करना चाहिए ।
  • संध्याकाल में मुख के आगे हाथ रखकर जप करना चाहिए ।

यदि यह नहीं बन सके तो सामान्य रुप से हाथ को हदय के पास स्पर्श करते हुए माला से जप करना चाहिए ।

मंत्र – जप निषेध

  1. नग्नावस्था में कभी भी जप नहीं करना चाहिए ।
  2. सिले हुए वस्त्र पहनकर जप नहीं करना चाहिए ।
  3. शरीर व हाथ अपवित्र हों तो जप नहीं करना चाहिए ।
  4. सिर के बाल खुले रखकर जप नहीं करना चाहिए ।
  5. आसन बिछाए बिना जप नहीं करना चाहिए ।
  6. बातें करते हुए जप नहीं करना चाहिए ।
  7. आधिक लोगों की उपस्थिति में प्रयोग के निमित्त जप नहीं करना चाहिए ।
  8. मस्तक ढके बिना जप नहीं करना चाहिए । –
  9. अस्थिर चित्त से जप नहीं करना चाहिए ।
  10. रास्ते चलते व रास्ते में बैठकर जप नहीं करना चाहिए ।
  11. भोजन करते व रास्ते में बैठकर जप नहीं करना चाहिए ।
  12. निद्रा लेते समय भी जप नहीं करना चाहिए ।
  13. उल्टे-सीधे बैठकर या पांव पसारकर भी कभी जप नहीं करना चाहिए ।
  14. जप के समय छींक नहीं लेनी चाहिए , खंखारना नहीं चाहिए , थूकना नहीं चाहिए , नीचे के अंगों का स्पर्श नहीं करना चाहिए व भयभीतावस्था में भी जप नहीं करना चाहिए ।
  15. अंधकारयुक्त स्थान में जप नहीं करना चाहिए ।
  16. अशुद्ध व अशुचियुक्त स्थान में जप नहीं करना चाहिए ।

जप की गणना

जप की गणना के तीन प्रकार बतलाए गए हैं – वर्णमाला जप , अक्षमाला जप एवं कर माला जप ।

वर्णमाला जपः — वर्णमाला के अक्षरों के आधार पर जप – संख्या की गणना की जाए , उसे ‘ वर्णमाला जप ‘ कहते हैं ।

अक्षमाला जपः — मनकों की माला पर जो जप किया जाता है , उसे ‘ अक्षमाला जप ‘ कहते हैं । अक्षमाला में एक सौ आठ मनकों की माला को प्रधानता प्राप्त है और उसके पीछे भी व्यवस्थित वैज्ञानिक रहस्य है ।

(“जीवन जगत् और सृष्टि का प्राणाधार सूर्य है , जो कि एक मास में एक व्रुत्त पूरा कर लेता है । खगोलीय वृत्त ३६० अंशों का निर्मित है और यदि इसकी कलाएं बनाई जाएं तो ३६० + ६० = २१६०० सिद्ध होती हैं ।

चूंकि सूर्य छह मास तक उत्तरायन तथा शेष छह मास दक्षिणायन में रहता है ,अतः एक वर्ष में दो अयन होने से यदि इन कलाओं के दो भाग करें तो एक भाग १०८०० का सिद्ध होता है ।

सामंजस्य हेतु अंतिम बिंदुओं से संख्या को मुक्त कर दें तो शुद्ध संख्या १०८ बच रहती हैं , इसलिए भारतीय धर्मग्रंथों में उत्तरायन सूर्य के समय सीधे तरीके से तथा दक्षिणायन सूर्य के समय दाएं – बाएं तरीके से एक सौ आठ मनको की माला फेरने का विधान है , जि से कार्यसिद्धि में सफलता मिलती है ।

भारतीय कालगति में एक दिन रात का परिणाम ६० घड़ी माना गया है , जिसके ६० * ६० = ३६०० पल तथा ३६०० * ६० = २१६०० विपल सिद्ध होते हैं । इस प्रकार इसके दो भाग करने से १०८०० विपल दिन के और इतने ही रात्रि के सिद्ध होते हैं और शुभकार्य में अहोरात्र का पूर्व भाग ( दिन को ) ही उत्तम माना गया है , जिसके विपल १०८०० हैं , अतः उस शुभ कर्म में १०८ मनकों की माला को प्रधानता देना तर्क संगत और वैज्ञानिक दृष्टि से उचित है ।

किसी भी मंत्र की हजार अथवा लाख संख्या की गणना माला द्वाराही संभव है।इसके लिए१०८ मनकों की माला सर्वश्रेष्ठ मानीगई है।”)

करमाला जपः – हाथ की उंगलियों के पोरवों ( पर्वो ) पर जो जप किया जाता है ,’ करमाला जप ‘कहते हैं । नित्य सामान्यतः बिना माला के भी जप किया जा सकता है , किन्तु विशिष्ट कार्य या अनुष्ठान-प्रयोग में माला प्रयोग में लाई जाती है ।

माला – संबंधी सावधानी

माला फेरते समय निम्न सावधानियां बरतनी आवश्यक हैं –

  1. माला सदा दाहिने हाथ में रखनी चाहिए ।
  2. माला भूमि पर नहीं गिरनी चाहिए , उस पर धूल नहीं जमनी चाहिए ।
  3. माला अंगूठे , मध्यमा व अनामिका से फेरना ठीक है । दूसरी उंगली तर्जनी से भूलकर भी माला नहीं फेरनी चाहिए ।
  4. मनकों पर नाखून नहीं लगने चाहिए ।
  5. माला में जो सुमेरु होता है , उसे लांघना नहीं चाहिए । यदि दुबारा माला फेरनी हो तो वापस माला बदलकर फेरें । मनके फिराते समय सुमेरु भूमि का कभी स्पर्श न करे । इस बात के प्रति सदा सावधान रहना चाहिए !!

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × 4 =