!! त्रिकाल-दर्शक गौरी-शिव मन्त्र !!

 

!! त्रिकाल-दर्शक गौरी-शिव मन्त्र !!

विनियोगः- अनयोः शक्ति-शिव-मन्त्रयोः श्री दक्षिणामूर्ति ऋषिः, गायत्र्यनुष्टुभौ छन्दसी, गौरी परमेश्वरी सर्वज्ञः शिवश्च देवते, मम त्रिकाल-दर्शक-ज्योतिश्शास्त्र-ज्ञान-प्राप्तये जपे विनियोगः।*

ऋष्यादि-न्यासः-

श्री दक्षिणामूर्ति ऋषये नमः शिरसि,

गायत्र्यनुष्टुभौ छन्दोभ्यां नमः मुखे,

गौरी परमेश्वरी सर्वज्ञः शिवश्च देवताभ्यां नमः हृदि, मम त्रिकाल-दर्शक-ज्योतिश्शास्त्र-ज्ञान-प्राप्तये जपे विनियोगाय नमः अञ्जलौ।

 

कर-न्यास (अंग-न्यास)-

ऐं अंगुष्ठभ्यां नमः (हृदयाय नमः),

ऐं तर्जनीभ्यां नमः (शिरसे स्वाहा),

ऐं मध्यमाभ्यां नमः (शिखायै वषट्),

ऐं अनामिकाभ्यां हुं (कवचाय हुं),

ऐं कनिष्ठिकाभ्यां वौषट् (नेत्र त्रयाय वौषट्),

ऐं करतल-करपृष्ठाभ्यां फट् (अस्त्राय फट्)।

ध्यानः-

उद्यानस्यैक-वृक्षाधः, परे हैमवते द्विज- क्रीडन्तीं भूषितां गौरीं।।

शुक्ल-वस्त्रां शुचि-स्मिताम्। देव-दारु-वने तत्र, ध्यान-स्तिमित-लोचनम्।।

चतुर्भुजं त्रि-नेत्रं च, जटिलं चन्द्र-शेखरम्। शुक्ल-वर्णं महा-देवं, ध्याये परममीश्वरम्।।

मानस पूजन :- 

लं पृथिवी-तत्त्वात्मकं गन्धं समर्पयामि नमः।

हं आकाश-तत्त्वात्मकं पुष्पं समर्पयामि नमः।

यं वायु-तत्त्वात्मकं धूपं घ्रापयामि नमः।

रं अग्नि-तत्त्वात्मकं दीपं दर्शयामि नमः।

वं अमृत-तत्त्वात्मकं नैवेद्यं निवेदयामि नमः।

शं शक्ति-तत्त्वात्मकं ताम्बूलं समर्पयामि नमः।

शक्ति-शिवात्मक मन्त्र : –  “ॐ ऐं गौरि, वद वद गिरि परमैश्वर्य-सिद्ध्यर्थं ऐं। सर्वज्ञ-नाथ, पार्वती-पते, सर्व-लोक-गुरो, शिव, शरणं त्वां प्रपन्नोऽस्मि। पालय, ज्ञानं प्रदापय।”

 

इस ‘शक्ति-शिवात्मक मन्त्र’ के पुरश्चरण की आवश्यकता नहीं है। केवल जप से ही अभीष्ट सिद्धि होती है। अतः यथाशक्ति प्रतिदिन जप कर जप फल देवता को समर्पित कर देना चाहिए !!

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

18 − eight =